शनिवार, 2 जुलाई 2016

राष्ट्रीय स्तर पर पहलवानी में देवरिया का रोशन करते नाम – श्री रामप्रवेश यादव उर्फ़ साधू पहलवान

पहलवानी! जी हाँ, पूर्वांचल भी पीछे नहीं है पहलवानी में। यहाँ के कई पहलवानों ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस मिट्टी को गौरवांवित किया है। वैसे भी मिट्टी की कीमत केवल किसान ही नहीं पहलवान भी जानता है। जाने भी क्यों नहीं, चाहें कितना भी बड़ा क्यों न हो जाए पर इसी मिट्टी को तो सिर से लगाते, मिट्टी में धोबिया पछाड़ आदि से अपने प्रतिद्वंदी को पछाड़ता है। आइए, आज आपका परिचय ऐसे ही एक राष्ट्रीय पहलवान से करवाता हूँ। जी हाँ, हम बात कर रहे हैं देवरिया जिले के रुद्रपुर ब्लाक के केवटलिया गाँव के जाने-माने पहलवान श्री झल्लर यादव के प्रपौत्र श्री साधू यादव की। साधू यादव को विरासत में कुश्ती कला मिली है। बचपन से ही नदी के रेत में ताल ठोंकने से अपनी कुश्ती की शुरुआत करने वाले साधू यादव आज अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देवरिया के साथ ही भारत का नाम रोशन करने के लिए जी-जान से अपनी कुश्ती कला में निखार ला रहे हैं।
पहली बार ही स्वतंत्रता दिवस पर फुलवरिया गाँव में हो रहे कुश्ती में विजय पाते ही  स्पोर्ट चैंपियनशिप में उसका चयन हो गया। 5 अगस्त 2011 को गोरखनाथ मंदिर में आयोजित 85 कि.ग्रा. फ्री स्टाइल में गोरखपुर केसरी के लिए दूसरे राउंड में जीत के बाद तीसरे में मात खा गए थे। पराजय के बाद भी उसने हार नहीं मानी और होस्टल में रहकर प्रयासरत रहे तथा 2011 में ही गोण्डा के "डी. ए. वी." इंटर कॉलेज, नवाबगंज में हुए राज्यस्तरीय प्रतियोगिता के 76 केजी वेट फ्री स्टाइल में बराबरी पर छूटे। इस पहलवान की कड़ी मेहनत और कुछ कर गुजरने का जज्बा रंग लाया और कुश्ती में लगातार प्रयासरत रहा ग्यारहवीं का यह छात्र साधू 2012 में फिर120 किलोग्राम में स्टेट चैम्पियनशिप के लिए चुन लिया गया। साधू यादव लगभग लुप्त हो चुकी इस परम्परा (कुश्ती) को फिर से जीवित करने का बीड़ा तो उठाया ही हैं साथ ही अपने क्षेत्रवासियों की सेवा भी करना चाहते हैं। आज साधु यादव न सिर्फ अपने गाँव-जवार के अपितु जिले के लिए गौरव हैं। यह पहलवान राजनीति के माध्यम से अपने पूरे छेत्र की छवि बदलने के लिए व्याकुल है, उत्सुक है और इस पहलवान द्वारा अपने स्तर पर सेवा करने का ही प्रतिफल रहा कि केवटलिया गाँव के लोगों ने इसे अपना ग्राम-प्रधान चुना। साधू यादव के नेतृत्व में प्रतिवर्ष कुश्ती का आयोजन किया जाता है जिसमें मंडल के साथ ही बाहर के भी छोटे-बड़े पहलवान हिस्सा लेते हैं। साधू यादव पूरी तरह से समाज सेवा के साथ ही पहलवानी के लिए अपने आप को समर्पित कर दिए हैं।
श्री पंकज यादव भोजपुरिया
मिट्टी से जुड़ा, अपनों से जुड़ा यह देवरियाई पहलवान राजनेताओं से बहुत ही क्षुब्ध है। इसे लगता है कि अगर समाज सेवा करनी है, अपने क्षेत्र की स्थिति सुधारनी है तो राजनीति में जाना ही होगा। इसे के मद्देनजर यह पहलवान यूपी में 2017 में होने वाले विधानसभा चुनाव में रुद्रपुर विधानसभा क्षेत्र से भावी निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में कृतसंकल्पित दिख रहा है। भगवान के साथ ही जनता का प्यार इसे मिले, यही सुभकामना है पर साथ ही यह भी अपेक्षा की यह साधू अपने साधुत्व कर्मों से देवरिया का नाम रोशन करता रहे। जय-जय।
(ध्यान दें- यह जानकारी भेजी है साधू यादव के गाँव के ही श्री पंकज यादव भोजपुरिया ने। पंकज यादवजी साधू यादव के बहुत ही करीबी और अभिन्न मित्र हैं। ये अपने जवार की जनता से अपील भी करते हैं कि साधू यादव के साथ खड़ी हो और साथ ही पंकजजी साधू यादव के मंगलमयी, विजयमयी जीवन की कामना करते हैं।)
-पं. प्रभाकर पांडेय गोपालपुरिया

3 टिप्‍पणियां:

Pankaj Yadav ने कहा…

बहुत बहुत आभार प्रभाकर भईया के 😊
बहुत बढ़िया लागल

Thakur Shesh Nath Shahi ने कहा…

आप सभी लोगो को बहुत बहुत बधाईया और कामना करते है कि इसी तरह देवरिया का नाम बहुत ऊचाईयो तक ले जाये...

Thakur Shesh Nath Shahi ने कहा…

आप सभी लोगो को बहुत बहुत बधाईया और कामना करते है कि इसी तरह देवरिया का नाम बहुत ऊचाईयो तक ले जाये...